Meri Lagi Shyam Sang Preet Lyrics - Jaya Kishori Ji Bhajan

SHARE

Meri Lagi Shyam Sang Preet Lyrics - Jaya Kishori Ji Bhajan

Meri Lagi Shyam Sang Preet Lyrics 

Meri Lagi Shyam Sang Preet Lyrics in Hindi , sung by Jaya Kishori Ji, lyrics Are Traditional . Music By Team Haya Kishori Ji.


Meri Lagi Shyam Sang Preet Lyrics in Hindi


क्या जाने कोई, क्या जाने !
क्या जाने कोई, क्या जाने !
मुझे मिल गया मन का मीत,
ये दुनिया !
मुझे मिल गया मन का मीत,
ये दुनिया क्या जाने !

ओ  मेरी लगी, मेरी लगी,
मेरी लगी श्याम संग प्रीत, ये दुनिया क्या जाने !
(मेरी लगी श्याम संग प्रीत, ये दुनिया क्या जाने !)
क्या जाने कोई, क्या जाने ! (क्या जाने कोई, क्या जाने)
क्या जाने कोई, क्या जाने ! (क्या जाने कोई, क्या जाने)
मुझे मिल गया, मुझे मिल गया
मुझे मिल गया मन का मीत, ये दुनिया क्या जाने !
(मुझे मिल गया मन का मीत, ये दुनिया क्या जाने)
मेरी लगी श्याम संग प्रीत, ये दुनिया क्या जाने !


अब गोपियाँ कहती है  की सांसारिक प्रेम करने में थोड़ा समय लगता है | आप मिलते है एक दूसरे से बातें करते है , स्वभाव समझते है तब जाकर प्रेम होता है ! लेकिन गोपियाँ कहती है कृष्ण से प्रेम करने में इतना समय नहीं लगता। कृष्ण से प्रेम हमे कब हो गया था ?

छवि लखि मैंने श्याम की जब से ! (छवि लखि मैंने श्याम की जब से)
छवि लखि मैंने श्याम की जब से ! (छवि लखि मैंने श्याम की जब से)
भई बावरी मैं तो तब से ! (भई बावरी मैं तो तब से)
बाँधी प्रेम की डोर मोहन से ! (बाँधी प्रेम की डोर मोहन से)
नाता तोड़ा मैंने जग से ! (नाता तोड़ा मैंने जग से,)
ये कैसी, ये कैसी,  ये कैसी पागल प्रीत !
ये दुनिया क्या जाने।
(ये कैसी पागल प्रीत ,ये दुनिया क्या जाने)
मेरी लगी श्याम संग प्रीत, ये दुनिया क्या जाने !

और गोपियाँ कहती है सांसारिक प्रेम तो एक बार होता है , चला तो ठीक नहीं चला तो ठीक।  पर कृष्ण से प्रेम होने के बाद आप किसी और से प्रेम नहीं कर सकते। उसको आप भूल ही नहीं पाएंगे कभी। गोपियाँ कहती है क्यों नहीं भूल सकते ?

मोहन की सुन्दर सूरतिया ! (मोहन की सुन्दर सूरतिया)
मोहन की सुन्दर सूरतिया ! (मोहन की सुन्दर सूरतिया)
मन में बस गई मोहनी मूरतिया ! (मन में बस गई मोहनी मूरतिया,)
लोग कहे मैं भई बावरियां ! (लोग कहे मैं भई बावरियां)
हो जाऊं अब तेरी रे सावरिया ! (हो जाऊं अब तेरी रे सावरिया)
ये कैसी, ये कैसी,  ये कैसी निगोड़ी प्रीत !
ये दुनिया क्या जाने।
(ये कैसी निगोड़ी प्रीत ,ये दुनिया क्या जाने)
मेरी लगी श्याम संग प्रीत, ये दुनिया क्या जाने !

और गोपियाँ कहती है कृष्ण से प्रेम करने के बाद देखिये सांसारिक प्रेम करने के बाद सारे झगड़े है। झगडे ही झगड़े हैं। लेकिन कृष्ण से प्रेम करने के बाद आपमें क्या बदलाब आता है। गोपियाँ  कहती है !!!!!!!!!!!


हर दम अब तो रहूँ मस्तानी ! (हर दम अब तो रहूँ मस्तानी)
हर दम अब तो रहूँ मस्तानी ! (हर दम अब तो रहूँ मस्तानी)
लोक लाज थी नी बिसरानी ! (लोक लाज थी नी बिसरानी)
रूप राशि अंग अंग समानी ! (रूप राशि अंग अंग समानी)
 हेरत हेरत रहूँ दीवानी ! (हेरत हेरत रहूँ दीवानी)
मैं तो गाऊँ, मैं तो गाऊँ , 
मैं तो गाऊँ ख़ुशी के गीत ये दुनिया क्या जाने !
(मैं तो गाऊँ ख़ुशी के गीत ये दुनिया क्या जाने)
क्या जाने कोई, क्या जाने !
(क्या जाने कोई, क्या जाने)
क्या जाने कोई, क्या जाने !
(क्या जाने कोई, क्या जाने)
मुझे मिल गया मन का मीत,
ये दुनिया !
मुझे मिल गया मन का मीत,
ये दुनिया क्या जाने !


BhajanHindiLyrics is one of the most popular Hindi Bhajan Lyrics websites. Here you can easily find almost  All Aarti , Mantra , Bhajan , Bhakti Songs , Stotram , Chalisa Etc Lyrics In Hindi From BhajanHindiLyrics website. 
Web Tittle : Meri Lagi Shyam Sang Preet Lyrics Jaya Kishori Ji Bhajan ,
SHARE